Monthly Archive: May 2018

Babulal Agrawal got relief from Delhi high court

Senior IAS Officer Babulal Agrawal

Senior IAS Officer Babulal Agrawal को बड़ी राहत मिली है. दिल्ली हाईकोर्ट ने बीएल अग्रवाल और उनके रिश्तेदार आनंद अग्रवाल के विरुद्ध चल रही सीबीआई जांच पर रोक लगा दी है.

पूर्व IAS बी एल अग्रवाल पर सीबीआई ने यह आरोप लगाया था कि वे अपने विरुद्ध एक प्रकरण को प्रभावित करने के लिए रिश्वत दे रहे थे। पूर्व IAS बी एल अग्रवाल को इस मामले में फ़रवरी 2017 में CBI ने गिरफ़्तार कर लिया था। बाबूलाल अग्रवाल 1988 बैच अधिकारी हैं इन्हें सर्विस रिव्यू कमेटी की सिफारिशों के आधार पर अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गई थी.

 

HC stay on CBI action against IAS BL Agrawal

पूर्व IAS Babulal Agrawal के खिलाफ सीबीआई की कार्रवाई पर हाईकोर्ट का स्टे

रायपुर | दिल्ली हाईकोर्ट ने गुरुवार को पूर्व IAS Babulal Agrawal पर सीबीआई द्वारा की जा रही कार्रवाई पर रोक लगा दी है। अग्रवाल को यह राहत हाईकोर्ट की डबल बैंच ने दी है जिसमें जस्टिस मुरलीधर और जस्टिस आईएस मेहता शामिल हैं। अग्रवाल ने सीबीआई की कार्रवाई को अदालत में चुनौती दी थी। अग्रवाल ने सीबीआई की कार्रवाई को गलत और अधिकार क्षेत्र के बाहर बताया था। शेष|पेज 8
इसी आदेश के साथ ही अग्रवाल की याचिका भी ग्राह्य कर ली गई। हाईकोर्ट ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि याचिका पर सुनवाई होने तक सीबीआई न कोई आरोप पत्र
बनाएगी और न ही चार्ज फ्रेम करेगी। अग्रवाल ने कोर्ट के आदेश की पुष्टि की है। अग्रवाल और उनके रिश्तेदार आनंद अग्रवाल के खिलाफ सीबीआई जांच कर रही थी। सीबीआई ने यह आरोप लगाया था कि वे अपने विरुद्ध एक प्रकरण को प्रभावित करने के लिए रिश्वत दे रहे थे। इस प्रकरण को लेकर अग्रवाल को फरवरी 2017 में सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया था। प्रकरण कार्रवाई को चुनौती देते हुए आनंद अग्रवाल ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। 

IAS Babulal Agrawal

IAS Babulal Agrawal newspaper cutting

 

CAT reappointed Senior IAS Babulal AGRAWAL

Senior IAS Babulal Agrawal

The Central Administrative Tribunal (CAT) has rejected the orders of the Central and State government, on the forceful retirement of Chhattigarh cadre Senior Officer IAS Babulal Agrawal.

After the recommendation of Chhattisgarh Government about the forceful retirement of the IAS officer in the unfavorable Confidential Report (CR), the Central government had earlier terminated his services.

Against the orders of government of forceful retirement, Babulal Agrawal approached the Central Administrative Tribunal, New Delhi.

The bench of Justice Pramod Kohli and Justice K.N. Shrivastava, announced the verdict after hearing the plea of the officer, on Thursday.

It has directed the State government to reinstate BL Agrawal services. As per the orders of CAT, he would have to be reinstated from the date of the retirement given to him. “His seniority has to be maintained”.